प्रेगनेंसी में अनार व अनार का जूस: फायदे और नुकसान | Pregnancy Me Anar Khane Ke Fayde

Pregnancy Me Anar Khane Ke Fayde
IN THIS ARTICLE

गर्भावस्था के समय जो आहार आप ग्रहण करते हैं, उसका असर धीरे-धीरे विकसित हो रहे भ्रूण पर भी पड़ता है। इसलिए, प्रेगनेंसी के दौरान खान-पान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है। यहां अनार एक अहम भूमिका निभा सकता है, क्योंकि इसमें कई तरह के जरूरी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। मॉमजंक्शन के इस लेख में हम आपको प्रेगनेंसी में अनार क्यों खाना चाहिए और प्रेगनेंसी के दौरान अनार के फायदे के बारे में विस्तार से बताएंगे। आइए, सबसे पहले जान लेते हैं कि गर्भावस्था के दौरान अनार खाना कितना अच्छा है।

क्या गर्भावस्था के दौरान अनार खाना अच्छा है? | pregnancy me anar khana chahiye ya nahi

जी हां, गर्भावस्था के दौरान अनार का सेवन फायदेमंद साबित हो सकता है। दरअसल, अनार में अधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जो गर्भनाल को सुरक्षित रखने में मदद कर सकते हैं। इसमें मौजूद फोलेट शिशु जन्म दोष (मस्तिष्क और रीढ़ के हड्डियों से संबंधित समस्या) के विरुद्ध लड़ने का काम कर सकता है। इसके अलावा, अनार रक्त को साफ करने के साथ-साथ यूरिनरी संक्रमण की समस्या और शरीर के प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद कर सकता है (1)। फिर भी इसके उपयोग से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

गर्भावस्था के दौरान अनार के जूस का सेवन कितना सुरक्षित है, चलिए जानते हैं।

क्या गर्भावस्था में अनार का रस लेना सुरक्षित है? | Anar Ka juice in pregnancy

गर्भवती महिलाओं के लिए अनार का रस फायदेमंद हो सकता है। दरअसल, यह फॉलिक एसिड सहित कई विटामिन और खनिजों से समृद्ध होता है, जो प्रसव से पहले गर्भवती के स्वास्थ्य के लिए जरूरी माने जाते हैं। इसके अलावा, अनार के जूस में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं, जो शरीर में स्वस्थ रक्त प्रवाह को बढ़ावा देकर भ्रूण के विकास में मदद कर सकते हैं। अनार के रस में पोटैशियम भी पाया जाता है, जो गर्भावस्था के दौरान पैरों की ऐंठन को रोकने में मददगार साबित हो सकता है (2)

आगे जानिए गर्भावस्था के समय अनार खाने के स्वास्थ्य लाभ।

गर्भावस्था के दौरान अनार खाने के स्वास्थ्य लाभ | Pregnancy Me Anar Khane Ke Fayde

अनार एक गुणकारी फल है और गर्भावस्था के दौरान इसके सेवन से कई लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं, जिनमें से कुछ हम नीचे आपको बताने जा रहे हैं –

  1. उल्टी को कम करना : गर्भावस्था के दौरान होने वाली उल्टी को कम करने के लिए अनार का सेवन फायदेमंद हो सकता है। एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, अनार प्रेगनेंसी के दौरान मतली और लगातार हो रही उल्टी की स्थिति को ठीक करने का काम कर सकता है (3)
  1. उच्च रक्तचाप को कम करने के लिए : गर्भावस्था के दौरान अनार का जूस प्रीक्लेम्पसिया (उच्च रक्तचाप विकार) पर प्रभावी असर दिखा सकता है। दरअसल, अनार एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है, जो प्रीक्लेम्पसिया की स्थिति को ठीक करने काम कर सकता है। इससे गर्भ में मौजूद शिशु को किसी प्रकार की हानि से बचाने में सहायता मिलती है (4)
  1. स्वस्थ ह्रदय के लिए : गर्भावस्था के दौरान फोलेट युक्त आहार का सेवन एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, फोलेट जन्‍मजात ह्रदय रोग से बचाव का काम कर सकता है। इसलिए, डॉक्टर भी गर्भवती महिलाओं को फोलेट से समृद्ध आहार खाने की सलाह देते हैं (5) (6)
  1. भ्रूण के मस्तिष्क की रक्षा : गर्भावस्था के दौरान अनार का सेवन भ्रूण के मस्तिष्क की सुरक्षा का काम कर सकता है। एक वैज्ञाानिक शोध के अनुसार, अनार न्यूरोप्रोटेक्टिव सुरक्षा देकर फेटल ब्रेन इंजरी (fetal brain injury) के जोखिम को कम कर सकता है (7), (8)
  1. हड्डी की घनत्वता में सुधार : अनार का सेवन गर्भावस्था के दौरान हड्डियों में कैल्शियम को बढ़ावा देने का काम कर सकता है। साथ ही अनार के इस लाभ का सकारात्मक प्रभाव भ्रूण पर भी पड़ सकता है (9)
  1. गर्भावस्था की जटिलताओं को रोकना : अनार का सेवन गर्भावस्था के दौरान कई जटिलताओं को दूर करने का काम कर सकता है। इसमें, समय से पहले प्रसव से बचाव, ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस को कम करना और रक्तचाप को नियंत्रित करना शामिल है (4)
  1. इम्यून सिस्टम को बढ़ाने के लिए : गर्भावस्था के समय रोग उत्पन्न होने की आशंका बढ़ जाती है। ऐसे में अनार का सेवन आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत कर सकता है। साथ ही अनार रक्त को साफ कर और शरीर में बैक्टीरिया को दूर करके रोग प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर कर सकता है (10)
  1. एनीमिया से छुटकारा : शरीर में आयरन की कमी एनीमिया का कारण बनती है। गर्भावस्था में एनीमिया से छुटकारा पाने के लिए अनार का सेवन किया जा सकता है। अनार में आयरन की मात्रा पाई जाती है, जो लाल रक्त कोशिकाओं के विकास में मदद कर सकता है (11) (6)

इस लेख के आगे भाग में जानते हैं कि गर्भावस्था में अनार कब खाना चाहिए।

गर्भावस्था में अनार कब खाएं | Pregnancy Me Anar Kab Khana Chahiye

जैसा कि हमने आपको बताया कि अनार का सेवन गर्भावस्था के दौरान सुरक्षित है और इसकी सीमित मात्रा का सेवन आप सुबह और शाम नाश्ते में कर सकते हैं। हालांकि, प्रेगनेंसी के दौरान यह कब खाना चाहिए, यह जानकारी एक अनुभवी डॉक्टर सही दे पाएगा।

गर्भावस्था के दौरान अनार का सेवन किस तरह नुकसान पहुंचा सकता है, चलिए आगे देखते हैं।

गर्भावस्था में अनार के सेवन के साथ जुड़े जोखिम

गर्भावस्था के समय अनार खाने के फायदे अनेक हैं, लेकिन अन्य खाद्य पदार्थों की तरह इसके भी कुछ नुकसान हो सकते हैं। एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, अनार एलर्जी की स्थिति पैदा कर सकता है (12)। इस विषय पर अभी और वैज्ञानिक शोध की आवश्यकता है, इसलिए आप गर्भावस्था में अनार खाने से पहले डॉक्टर पूछ जरूर लें।

इस लेख के आगे अनार खाने को लेकर कुछ और बातों पर नजर डालेंगे।

गर्भावस्था के दौरान अनार खाने के टिप्स

अब हम आपको गर्भावस्था के समय अनार खाने को लेकर कुछ टिप्स बताएंगे। जो आपके और आपके आने वाले शिशु के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

  • अनार का जूस बनाकर पिया जा सकता है।
  • अनार को स्नैक के रूप में खा सकते हैं।
  • खाने के बाद डेसर्ट में भी अनार का सेवन किया जा सकता है।
  • अनार का मिल्कशेक बनाकर भी सेवन किया जा सकता है।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

गर्भवती महिला एक दिन में कितने अनार खा सकती है?

गर्भावस्था के दौरान एक गर्भवती महिला लगभग 227 ग्राम अनार का जूस प्रतिदिन ले सकती हैं, लेकिन अच्छा होगा कि आप इसकी सही मात्रा के लिए एक बार डॉक्टरी परामर्श जरूर लें (13)

क्या मैं गर्भावधि मधुमेह के दौरान अनार खा सकता हूं?

गर्भावस्था में मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए अनार का सेवन किया जा सकता है। अनार फाइबर, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन और मिनरल से समृद्ध होता है। ये सभी पोषक तत्व प्रगनेंसी में ब्लड शुगर को नियंत्रित करने का काम कर सकते हैं (14)

अब तो आप भली भांति जान गए होंगे कि गर्भावस्था में अनार का सेवन कितना फायदेमंद हो सकता है। साथ ही आप प्रेगनेंसी के दौरान इसे खाने के विभिन्न तरीकों और इससे होने वाले नुकसान के विषय में अवगत हो गए होंगे। अगर आप गर्भावस्था का अपना सफर शुरू कर चुकी हैं, तो अनार का चयन एक पौष्टिक आहार के रूप में कर सकती हैं, लेकिन ध्यान रहे कि आप गलती से भी इसकी अधिक मात्रा का सेवन न करें। उम्मीद है कि यह लेख आपकी गर्भावस्था को सुखद बनाने में सहायक होगा। लेख से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए आप नीचे दिए कमेंट बॉक्स का सहारा ले सकती हैं।

संदर्भ (References) :

Was this information helpful?
The following two tabs change content below.

Latest posts by Bhupendra Verma (see all)

Bhupendra Verma

Back to Top