क्या प्रेगनेंसी में मशरूम खा सकते हैं? | Kya Pregnancy Me Mushroom Khana Chahiye

Kya Pregnancy Me Mushroom Khana Chahiye
IN THIS ARTICLE

गर्भावस्था में अक्सर कुछ अलग खाने की लालसा होती है। इन्हीं लालसाओं में मशरूम खाने की प्रबल इच्छा भी शामिल है। वहीं, मशरूम को लेकर अक्सर जहन में यह सवाल उठने लगता है कि क्या इसे खाना सही होगा या नहीं? कहीं इसके सेवन से कुछ नुकसान तो नहीं होगा? आपकी इस दुविधा का समाधान इस लेख में मौजूद है। मॉमजंक्शन के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि गर्भावस्था में मशरूम खाना चाहिए या नहीं। साथ ही इसके फायदे और नुकसान के विषय में भी बताएंगे। अगर इसका सेवन किया जा रहा है, तो किन बातों का ख्याल रखना चाहिए, इस विषय में भी विस्तृत जानकारी आपको देंगे।

सबसे पहले प्रेगनेंसी में मशरूम खाना चाहिए या नहीं, इस सवाल के जवाब पर एक नजर डाल लेते हैं।

क्या प्रेगनेंसी में मशरूम खाना सुरक्षित है?

प्रेगनेंसी में मशरूम खाया जा सकता है। इसमें विटामिन डी, राइबोफ्लेविन, आयरन और अन्य जरूरी पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो आपके भ्रूण के विकास के लिए आवश्यक हैं (1) (2) (3)। हां, आपको कच्चे मशरूम खाने से जरूर बचना चाहिए। साथ ही गर्भवती को मशरूम की मात्रा और इसके प्रकार का भी खास ख्याल रखना चाहिए। लेख के आगे के हिस्से में आपको कितनी मात्रा में मशरूम का सेवन करना चाहिए और कौन से प्रकार के मशरूम गर्भावस्था में हानिकारक साबित हो सकते हैं, इस बारे में बताएंगे।

चलिए, अब जान लेते हैं एक दिन में कितने मशरूम का सेवन किया जाना चाहिए।

गर्भावस्था में एक दिन में कितनी मात्रा में मशरूम खाना चाहिए?

आप गर्भावस्था के दौरान मशरूम में मौजूद जरूरी पोषक तत्व लेने के लिए करीब आधे से एक कप मशरूम का सेवन कर सकती हैं (4) (5) (6)

अब बात करते हैं गर्भावस्था में मशरूम खाने के सही समय के बारे में।

प्रेगनेंसी में मशरूम कब खाना चाहिए?

मशरूम को आप गर्भावस्था में किसी भी समय अपने आहार में शामिल कर सकती हैं, क्योंकि इसमें विटामिन-डी समेत कई अन्य पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो पूरी प्रेगनेंसी के दौरान जरूरी होते हैं (7) (8)। ध्यान रहे कि मशरूम खाते समय इसकी मात्रा का खास ख्याल रखें, नहीं तो इसके दुष्परिणाम भी सामने आ सकते हैं।

एक नजर डालते हैं मशरूम में मौजूद पोषक तत्वों पर।

मशरूम में मौजूद पोषक तत्व

मशरूम को पौष्टिकता का खजाना कहा जाए, तो गलत नहीं होगा। इसमें संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए कई जरूरी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। नीचे दिए गए टेबल में हम आपको प्रति 100 ग्राम मशरूम में मौजूद पोषक तत्वों के बारे में बताएंगे (9)

पोषक तत्व मात्रा प्रति 100 ग्राम
जल 92.45g
ऊर्जा 22kcal
प्रोटीन 3.09g
कुल फैट 0.34g
कार्बोहाइड्रेट 3.26g
फाइबर 1g
शुगर 1.98g
कैल्शियम 3mg
आयरन 0.5mg
मैग्नीशियम 9mg
फास्फोरस 86mg
पोटेशियम 318mg
सोडियम 5mg
जिंक 0.52mg
कॉपर 0.318mg
मैंगनीज 0.047
सेलेनियम 9.3 µg
विटामिन सी 2.1 mg
थियामिन 0.081mg
राइबोफ्लेविन 0.402mg
नियासिन 3.607mg
पैंटोथैनिक एसिड (Pantothenic Acid) 1.497mg
विटामिन बी-6 0.104mg
फोलेट, फूड 17µg
फोलेट, डीएफई 17µg
कोलीन 17.3mg
विटामिन डी 7 IU

अब गर्भावस्था में मशरूम खाने के फायदों के बारे में आपको बताएंगे।

गर्भावस्था के दौरान मशरूम खाने के क्या फायदे हैं?

गर्भावस्था के दौरान मशरूम खाने के फायदे अनेक हो सकते हैं, क्योंकि मशरूम विटामिन डी, बी, आयरन और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। इन सभी तत्वों से आपको गर्भावस्था में क्या फायदे हो सकते हैं, इसके बारे में हम आपको नीचे विस्तार से बताएंगे।

  1. हड्डियों को मजबूत करे : गर्भावस्था में विटामिन डी की कमी से प्रीक्लेम्पसिया (उच्च रक्तचाप), लो बर्थवेट, नवजात को हाइपोकैलीमिया (कैल्शियम की कम मात्रा), प्रसवोत्तर नवजात की वृद्धि में कमी और ऑटोइम्यून बीमारी (जब इम्यून सिस्टम स्वयं रोग का कारण बन जाए) का सामान कर पड़ सकता है (10)। आप अपने आहार में मशरूम को शामिल करके इन परेशानियों से खुद को बचा सकती हैं, क्योंकि इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन डी पाया जाता है (8)
  1. आयरन की कमी को दूर करे : प्रेगनेंसी के दौरान आपके शरीर में खून की कमी और आयरन की कमी हो सकती है, जिससे आपको एनिमिया हो सकता है। ऐसे में आप मशरूम का सेवन करके इस कमी को दूर कर सकते हैं। मशरूम में आयरन भरपूर मात्रा में मौजूद रहता है, जो हीमोग्लोबिन और लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में मदद करता है (1)
  1. भ्रूण का विकास : मशरूम आपके भ्रूण को विकसित होने में भी मदद कर सकता है। दरअसल, इसमें मौजूद प्रोटीन आपके भ्रूण के संपूर्ण विकास में सहायक होता है (11)
  1. भ्रूण का मस्तिष्क विकास : मशरूम में कोलीन (Choline) नामक पोषक तत्व मौजूद होता है, जिसके सेवन का सीधा संबंध आपके भ्रूण के मस्तिष्क के सकारात्मक विकास से संबंधित है (12)
  1. कब्ज की समस्या को दूर करे : गर्भावस्था के दौरान फाइबर की ज्यादा आवश्यकता होती है। इसको आप मशरूम के सेवन से पूरा कर सकती हैं, क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर मौजूद होता है। यह फाइबर आपको कब्ज की समस्या में राहत दिलाने में मदद कर सकता है (7) (13) (14)
  1. भ्रूण के वजन के लिए जरूरी : गर्भावस्था के दौरान मशरूम का सेवन आपके लिए ही नहीं, बल्कि भ्रूण के स्वास्थ्य के लिए भी कई मायनों में फायदेमंद है। इसमें मौजूद राइबोफ्लेविन शिशु के जन्म के समय के वजन और लंबाई पर सकारात्मक असर डालता है (15)
  1. इम्यूनिटी बढ़ाए : मशरूम में मौजूद विटामिन-डी आपकी हड्डियों को मजबूत करने के साथ ही आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत रखने में मदद करता है (16)। अगर, आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत रहेगी, तो आप जल्द किसी बीमारी की चपेट में नहीं आएंगी।

अब हम आपको मशरूम के सुरक्षित प्रकार के बारे में जानकारी देंगे।

गर्भावस्था के दौरान कौन से प्रकार के मशरूम खाना सुरक्षित हैं?

मशरूम के कई प्रकार होते हैं। इनमें से कौन-से मशरूम जहरीले या नुकसानदायक हो सकते हैं, यह समझना आसान नहीं होता है। ऐसे में मशरूम की कौन-सी प्रजाति का सेवन आपकी गर्भावस्था के लिए सुरक्षित है, इस बारे में आप डॉक्टर से पूछ सकती हैं। वहीं, हम आपको नीचे कुछ सुरक्षित मशरूम के बारे में भी बताएंगे, लेकिन इनका सेवन आपको लेख में ऊपर बताई गई मात्रा से अधिक नहीं करना है (17) (18) (19) (20)

व्हाइट बटन मशरूम (White button Mushroom)

White button Mushroom

व्हाइट बटन मशरूम का प्रयोग खाने में सबसे अधिक होता है, क्योंकि यह मशरूम की सबसे आम किस्म है। इसका इस्तेमाल कर आप स्वादिष्ट व्यंजन बना सकती हैं। मिक्स वेज और टॉपिंग के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। जैसे कि इसके नाम से ही स्पष्ट है कि यह सफेद रंग का मशरूम होता है।

शिटाके मशरूम (Shiitake Mushroom)

Shiitake Mushroom

शिटाके मशरूम को भी आप गर्भावस्था में अपने आहार में शामिल कर सकती हैं। इसका इस्तेमाल चाइनिज व्यंजनों में भी काफी लोकप्रिय है। इसे औषधीय मशरूम माना जाता है, जिसमें एंटी-ट्यूमर, एंटी-कैंसर, जीवाणुरोधी व एंटी-फंगल गुण शामिल हैं।

पोर्चिनी मशरूम (Porcini Mushrooms)

Porcini Mushrooms

पोर्चिनी मशरूम सुनहरे रंग के होते हैं। इन्हें आप खाने में शामिल कर सकती हैं। यह खासकर यूरोपीय देशों में काफी प्रचलित है। यह मशरूम की सबसे महंगी प्रजातियों में शामिल है।

पारसोल (Parasol)

Parasol

पारसोल मशरूम चमकीले रंग के होते हैं। इनके ऊपर की छतरी के आकार का हिस्सा क्रीम रंग का होता है, जिस पर दूधिया रंग के छल्ले बने होते हैं।

इनके अलावा जिन मशरूमों का आप इस्तेमाल कर सकते हैं वो कुछ इस प्रकार हैं।

ओएस्टर (Oyster) मशरूम

Oyster

मोरचेला (Morchella) मशरूम

Morchella

इनोकी (Enoki) मशरूम

Enoki

मशरूम खाने के फायदे तो आप जान चुके हैं, लेकिन आपको जहरीले मशरूम खाने के जोखिम के बारे में भी जानकारी होनी चाहिए। लेख में आगे हम आपको इसके बारे में विस्तार से बताएंगे।

जहरीले मशरूम लेने के जोखिम क्या हैं?

सबसे पहले तो आपको यह जानना जरूरी है कि मशरूम की कई प्रजातियां होती हैं, जिनमें से कुछ शरीर में विषाक्तता पैदा करती हैं। चौंकाने की बात यह है कि नॉर्मल मशरूम और विषाक्त मशरूम में काफी समानता होती है, जिस वजह से कई बार लोग जहरीले मशरूम खा लेते हैं। इसलिए, इनका चयन सावधानी से करना चाहिए। अगर कभी भी मशरूम खरीदते समय संदेह हो और लगे कि आप पहचान नहीं पा रहे हैं कि मशरूम खाने योग्य है या नहीं तो बेहतर होगा कि आप उसे न खरीदें। चलिए, अब एक नजर डालते हैं जहरीले मशरूमों की विषाक्तता की वजह से होने वाली परेशानियों के बारे में (21) (22) (23)

1. अमनिता फालोइड्स मशरूम (Amanita Phalloides Mushroom) खाने से:

Amanita Phalloides Mushroom

सामान्य मामलों में – उल्टी, दस्त, पेट में दर्द और मतली।

गंभीर मामलों में – लिवर फेल, कोगुलेशन (ब्लड क्लॉटिंग) विकार, गर्भपात, मस्तिष्क को क्षति, किडनी फेल और मौत।

2. जिरोमिट्रा एस्कुलेंटा (Gyromitra Esculenta) खाने से:

Gyromitra Esculenta

तेज सिरदर्द, उल्टी, दस्त, पेट दर्द, लिवर डैमेज और सेंट्रल नर्वस सिस्टम और ब्लड सेल्स को क्षति।

3. ऑरेलानस (Orellanus)

Orellanus

सामान्य मामलों में: बहुत प्यास लगना, बार-बार पेशाब आना, जी-मिचलाना, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, ठंड लगना, ऐंठन, अचेत होना।

गंभीर मामलों में: गुर्दे और किडनी का फेल होना और मौत।

4. इनॉयबे जियोफाइला (Inocybe Geophylla)

Inocybe Geophylla

सामान्य मामलों में : ज्यादा थूक आना, पसीना और आंखों में पानी का आना।

गंभीर मामलों में : पेट दर्द, जी-मिचलाना, डायरिया, धुंधलापन, सांस लेने में तकलीफ, ज्यादा सेवन से श्वसन और हृदय संबंधी गंभीर समस्या है।

5. मस्कारिया (Muscaria) मशरूम

Muscaria

जी-मिचलाना, उल्टी, दस्त, रंग मतिभ्रम, नाड़ी का धीरे चलना, हाइपोटेंशन (निम्न रक्तचाप), चिड़चिड़ापन, चिंता, बुखार, आलस आना और गंभीर मामलों में कोमा।

प्रेगनेंसी में मशरूम खाते समय कुछ बातों का ख्याल रखना चाहिए। वो कौन-सी बाते हैं, आइए इस बारे में जानते हैं।

गर्भावस्था के दौरान मशरूम खाते वक्त इन बातों को ध्यान में रखें

गर्भावस्था के दौरान अपनी और अपने होने वाले शिशु की सेहत के लिए आपको मशरूम खाने से पहले नीचे दी गई इन बातों का ख्याल रखना काफी जरूरी है-

  • हमेशा ताजे मशरूम खरीदें, जिनमें काले धब्बे, खरोंच और संड़ने वाले भूरे निशान न हों।
  • अगर पहले से स्टोर किए गए मशरूम को खरीद रहे हैं, तो आपको प्रोडक्ट की एक्सपायरी डेट देखना जरूरी है।
  • मशरूम को अच्छे तरीके से धोएं। आप इसे पकाने से पहले थोड़ी देर उबाल लें। कभी भी कच्चे मशरूम को न खाएं।
  • आपको अगर मशरूम खाने से पहले किसी तरह का डर लग रहा है, तो आप मशरूम की कम मात्रा खाकर देख सकते हैं। अगर किसी भी तरह से कुछ अलग शारीरिक प्रतिक्रिया या एलर्जी का अनुभव हो, तो तुरंत सेवन बंद कर दें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या मैं गर्भावस्था के शुरुआती दिनों में मशरूम खा सकती हूं?

आप गर्भावस्था के शुरुआती दिनों में मशरूम में मौजूद पौष्टिक गुणों की वजह से इसे आहार में शामिल कर सकती हैं (24)। वहीं, अगर आपकी प्रेगनेंसी में कोई कॉम्प्लिकेशन है, तो इसके सेवन से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें। साथ ही लेख में दिए गए हानिकारक मशरूम के सेवन से भी बचें।

क्या मैं गर्भावस्था के दौरान डिब्बाबंद मशरूम खा सकती हूं?

जी हां, आप डिब्बाबंद मशरूम खा सकती हैं, लेकिन इसकी एक्सपायरी डेट और आहार में शामिल करते समय इसकी मात्रा का जरूर ख्याल रखें (25)

क्या गर्भावस्था के दौरान मशरूम की लालसा बच्चे के लिंग का संकेत देते हैं?

नहीं, यह धारणा एकदम गलत है। इस तरह की बातें भ्रम और मिथक से ज्यादा कुछ नहीं। बच्चे के लिंग का किसी भी चीज की लालसा से कोई संबंध नहीं होता।

उम्मीद करते हैं कि इस लेख को पढ़ने के बाद गर्भावस्था के दौरान मशरूम के सेवन से जुड़ी आपकी दुविधा जरूर दूर हो गई होगी। आपको बस सही मशरूम का चुनाव करने और इसकी मात्रा का खास ख्याल रखने की जरूरत है। इन बातों का ख्याल रखते हुए आप गर्भावस्था में अपने मशरूम खाने की प्रबल इच्छा को शांत कर सकती हैं। आपको यह लेख कैसा लगा हमें जरूर बताएं। अगर लेख को पढ़ने के बाद भी आपके जहन में गर्भावस्था के दौरान मशरूम के सेवन से जुड़े कुछ सवाल उठ रहे हैं, तो आप उन्हें नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स के माध्यम से हम तक पहुंचा सकती हैं।

संदर्भ (References):

Was this information helpful?
Comments are moderated by MomJunction editorial team to remove any personal, abusive, promotional, provocative or irrelevant observations. We may also remove the hyperlinks within comments.

The following two tabs change content below.

Latest posts by Vinita Pangeni (see all)

Vinita Pangeni

Back to Top